Browntop Millet in Hindi क्या कहते हैं? – Browntop Millet क्या है? पूरी जानकारी

browntop millet in hindi
browntop millet in hindi

Browntop Millet in Hindi: पूरी दुनिया में अनगिनत किशन के Millet मौजूद है और उन्हीं में से एक है Browntop Millet इसे काफी कम लोग जानते हैं इस बाजरे या अनाज में कई अद्भुत गुण मौजूद हैं जो हम आगे जानेंगे भारत के कई राज्यों में इसकी खेती की जाती है.

इस अनाज का ऊपरी भाग भूरे रंग का होता है इसलिए इसे Browntop Millet कहा जाता है और इसकी खेती के लिए ना ज्यादा गर्म ना ज्यादा ठंडा वातावरण अनुकूल माना जाता है. साथी यह भूरे रंग का होने के साथ-साथ भुट्टे के जैसा दिखता है.

इसको निर्धारित रूप से बुवाई के बाद कम से कम 85 से 90 दिन लग जाते हैं परिपक्व रूप से तैयार होने में और इसकी कटाई ज्यादातर अगस्त महीना में किया जाता है. और इसकी खेती में ज्यादा परिश्रम नहीं लगता यह बुवाई और कटाई तक ही मेहनत सीमित रहती है.

Browntop Millet क्या है? – Browntop Millet in Hindi Name

भारत, बांग्लादेश, भूटान, कंबोडिया, मलावी, मायंमार, नेपाल, साउथ अफ्रीका, यमन, जिंबाब्वे इन जगहों में इसकी भरपूर मात्रा में खेती की जाती है सबसे ज्यादा इसकी खेती दक्षिण भारत में किया जाता है और अमेरिका के भी कुछ गिने-चुने अंश में इसकी थोड़ी बहुत खेती होती है.

भारत में भी इस हाइब्रिड अनाज का उत्पादन उत्तर प्रदेश, पंजाब, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात जैसे गरम इलाकों में किया जाता है. इसकी खेती के लिए ताप मात्रा थोड़ी ज्यादा होनी चाहिए इसकी खेती शीत प्रधान इलाकों में नहीं की जा सकती है.

2017 और 18 के रिपोर्ट के अनुसार भारत अकेले तकरीबन 17.8 लाख टर्न Browntop Millet का उत्पादन करने में सक्षम रहा है. और 2024 तक इसका उत्पादन तकरीबन 3 गुना हो जाएगा यानी इस हाइब्रिड अनाज को लोग काफी पसंद कर रहे हैं और आने वाले समय में इस स्वास्थ्यवर्धक अनाज का मांग और बढ़ेगा.

Browntop Millet को हिंदी में क्या कहते हैं – Browntop Millet Meaning in Hindi

Browntop Millet को भारत में अलग-अलग नामों से जाना जाता है से भारत के क्षेत्र/राज्य के अनुसार किसका नाम भी अलग-अलग दिया गया है. Browntop Millet in Hindi में  “छोटी कंगनी” (Choti Kangni) कहां जाता है यानी मुख्य तौर पर Browntop Millet का हिंदी में नाम छोटी कंगनी है.

Browntop Millet Scientific Name इसका वैज्ञानिक नाम “Brachiaria ramosa” है. भारत के विभिन्न राज्यों में इसे अन्य अन्य नामों से जाना जाता है जैसे कि, तमिल नाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटका इन सभी राज्यों में इसे पलापुल (Palapul), कोराले (Korale), अंडकोरा (Andakorra) जैसे नाम मिले हैं.

भारत के अलग-अलग राज्यों में Browntop Millet को नीचे बताए गए इन नामों से जाना जाता है.. (Browntop Millet in Hindi)

Tamil: पालापुल (Palapul)
Kannada: कोरेल (Korale)
Telugu: अंदकोरा (Andakorra)
Hindi: छोटी कंगनी (Choti Kangni)
Punjabi: हरी कंग (Hari Kang)
Nepali: बांसपाते (Banspate)

यह अनाज का घास श्रेणी में गिना जाता है इसकी वैज्ञानिक तौर पर श्रेणी/Family: Poaceae (Grass Family) मैं गिना जाता है.

अनाज परिपक्व होने के बाद इसके पौधे का ऊंचाई 10 से 70 सेंटीमीटर तक होती है और इसके पत्तों का लंबाई 2 से 25 सेंटीमीटर तक और चौड़ाई 4 से 14 मिलीमीटर तक और पत्तों के टहनियों का लंबाई 3 से 10 सेंटीमीटर तक होता है.

Browntop Millet खाने के फायदे – Benefits Of Browntop Millet in Hindi

यह अनाज के फायदे अनेक हैं यह बहुत अच्छा स्रोत है अमीनो एसिड का साथ ही इसमें उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन, डाइटरी फाइबर, विटामिन, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, मिनरल्स, फॉस्फोरस और वाइटल विटामिंस जैसे VB1, VB2, VB3 मौजूद होते हैं. साथी जितने भी Millet है उनमें से अधिक फाइबर इसमें मौजूद होता है.

यह शरीर को ऊर्जा देने के साथ-साथ कई बीमारियों को भी ठीक करता है.जिन व्यक्तियों को डाइजेशन यानी पाचन संबंधित शिकायत बनी रहती है और शुगर डायबिटीज जैसे रोगियों के लिए भी यह अत्यंत गुणकारी अनाज है. यह मुख्य तौर पर शरीर को साफ करने के लिए बना हुआ है शरीर का जमा हुआ गंदगी यह माल द्वारा निवारण करता है.

शरीर को साफ करता है

Browntop Millet शरीर को ऊपर से लेकर नीचे तक साफ करता है हमारे शरीर के इंटेस्टाइन को यह डिटॉक्सिफाइड करने में सक्षम है. जिनको पाइल्स अल्सर जैसे समस्या बनी रहती है यानी मुख्य तौर पर कहा जाए तो जिनको पेट संबंधित समस्या बनी रहती है उनके लिए यह एक रामबाण औषधि के रूप में काम करता है शरीर के अन्य अंगों के साथ-साथ यह हमारे शरीर में जमा हुआ कचड़ा को साफ करके त्वचा को निखरता है.

कैंसर से बचाने में सक्षम

इसके अंदर जो एंटी कैंसर गुण मौजूद होते हैं जो व्यक्ति को कैंसर जैसी घातक बीमारी होने से पहले सुरक्षा प्रदान करता है. जैसे ब्रेस्ट कैंसर, स्टमक कैंसर, इंटेस्टाइन कैंसर, ब्लड कैंसर इन सभी से सुरक्षा प्रदान करता है Browntop Millet.कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचने में भी यह शरीर को सुरक्षा प्रदान करता है. महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर की समस्या आजकल के समय में अधिक पाया जाता है इसलिए महिलाओं को भी यह खाने की सलाह दी जाती है.

हड्डियों को मजबूत बनाएं

यह कई तरह के पोषण तथ्य गुणों से भरपूर होता है प्रोटीन, मैग्नीशियम, आयरन, फास्फोरस और कई वाइटल विटामिंस मिनरल्स जो कुपोषण को दूर करता है. और बच्चों को भी अगर यह अनाज द्वारा बनाया गया भोजन का सेवन कराया जाए तो कुपोषण से छुटकारा मिलता है साथ ही यह शरीर को ऊर्जा देने के साथ-साथ हड्डी और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है. बच्चों के लिए भी अति गुणकारी भोजन के रूप में इसे माना गया है.

अन्य कई बीमारियों से छुटकारा

आजकल के समय में बहुत सारे लोग अपने गलत दिनचर्या के कारण कई सारे बीमारियों से ग्रसित है जैसे कि थायराइड, हाई ब्लड प्रेशर, गैस का पाचन, आंखों की कमजोरी सभी रोग Browntop Millet  खाने से ठीक हो जाते हैं. साथी जिनको अपने रीड की हड्डी में दर्द या कोई समस्या होती है इसमें भी हमारा ब्राउन टॉप मिलेट इसको ठीक करने में मदद करता है.

गंभीर नशे से छुटकारा

जो लोग शराब का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं और शराब, चाय, कॉफी इन सभी नसे से ग्रसित है और छोड़ना चाहते हैं तो इसमें भी ब्राउन टॉप मिलेट डिहाइड्रेशन के प्रॉब्लम को ठीक करता है और इन प्रकार के नशे से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है. अगर आप भी शराब के नशे से ग्रसित है और छोड़ना चाहते हैं तो ब्राउन टॉप मिलेट का सेवन जरूर करना चाहिए.

जोड़ों के दर्द से छुटकारा

जिन लोगों को जॉइंट पेन है या अर्थराइटिस है उनको भी रोजाना ब्राउन टॉप मिलेट का सेवन करना चाहिए इसके अलावा जो असामान्य बच्चे हैं यानी जो सभी बच्चों के साथ खेलकूद नहीं पाते असमर्थ है उनको भी ब्राउन टॉप मिलेट का सेवन करवाना चाहिए इससे हड्डियां बहुत ही ज्यादा मजबूत होती हैं और मांसपेशियों में भी लचक और ताकत मिलता है.

Browntop Millet इस्तेमाल कैसे करें – How To Use Browntop Millet

Browntop Millet को इस्तेमाल करने से पहले आपको कुछ बातें जानना बेहद जरूरी है. इस Millet मैं लगभग 13% फाइबर है जोकि Millet की श्रेणी में सबसे उच्च है तो इसको इस्तेमाल करने से पहले 8 से 10 घंटे तक भिगो कर रखें अगर आपको सुबह ब्रेकफास्ट के दौरान इसे खाना है तो रात को इसे भिगोकर रख दें ताकि इसका फाइबर नाराम हो जाए और यह अपना काम अच्छी तरह कर पाए.

जब भी किसी Millet का इस्तेमाल कर रहे हो चाहे वो Little Millet हो Kodo Millet हो या कोई भी Millet हो इसे आप एक साथ कभी भी मिक्स ना करें आपको इकलौता मिलेट एक टाइम पर लेना है अगर आप किसी एक Millet को नाश्ते के तौर पर लेते हैं तो दूसरे किसी भी Millet को नहीं लेना है ताकि वह अपना काम बहुत अच्छी तरह से कर पाएगा.

अन्य Millet को आप चावल के तौर पर उबाल कर खा सकते हैं लेकिन Browntop Millet को आप आटे के तौर पर पीस लें और इस की रोटी या पराठा बनाकर सेवन करें और जो साउथ इंडियन लोग हैं उन्हें इसका डोसा, इडली के रूप में ग्रहण करने पर इसका परिपूर्ण लाभ मिलेगा.

आगे पढ़े : Proso Millet in Hindi में क्या कहते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here