Durum Wheat in Hindi: दुरुम गेहूं – गुणों का भंडार

Durum Wheat in Hindi : दुरुम गेहूं, जिसे मकारोनी गेहूं या पास्ता गेहूं के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का गेहूं है जिसका उपयोग मुख्य रूप से पास्ता, कूसकूस और कुछ प्रकार की ब्रेड बनाने के लिए किया जाता है। यह एक कठोर गेहूं की किस्म है, जिसका अर्थ है कि इसमें अन्य प्रकार के गेहूं की तुलना में उच्च प्रोटीन सामग्री और लस की ताकत होती है।

ड्यूरम गेहूं की विशेषता इसके सुनहरे रंग और सख्त, सघन बनावट है, जो पास्ता बनाने के लिए आदर्श है जो खाना पकाने के दौरान अपने आकार और बनावट को बनाए रख सकता है। गेहूं की इस किस्म की व्यापक रूप से इटली, तुर्की और मोरक्को जैसे भूमध्यसागरीय देशों में खेती की जाती है, लेकिन यह समान जलवायु वाले दुनिया के अन्य क्षेत्रों में भी उगाई जाती है।

Table of Contents

विभिन्न व्यंजनों में ड्यूरम गेहूं का महत्व –  Importance of Durum Wheat in Different Cuisines

ड्यूरम गेहूं दुनिया भर के कई व्यंजनों में विशेष रूप से भूमध्यसागरीय और मध्य पूर्वी देशों में एक महत्वपूर्ण प्रधान फसल है। यहां कुछ प्रमुख कारण बताए गए हैं कि विभिन्न व्यंजनों में ड्यूरम गेहूं को क्यों महत्व दिया जाता है:

पास्ता: उच्च प्रोटीन सामग्री और लस की ताकत के कारण ड्यूरम गेहूं पास्ता बनाने के लिए पसंदीदा गेहूं की किस्म है, जो खाना पकाने के दौरान अच्छी तरह से पकड़ने वाली एक फर्म, चबाने वाली बनावट बनाने में मदद करती है।

इतालवी पास्ता, जैसे स्पेगेटी, लसग्ना और फेटुकाइन, पारंपरिक रूप से ड्यूरम गेहूं के सूजी के आटे से बनाए जाते हैं। इसके अलावा, कई अन्य प्रकार के पास्ता, जैसे कूसकूस और बुलगुर, भी ड्यूरम गेहूं से बनाए जाते हैं।

ब्रेड: हालांकि ड्यूरम गेहूं का आमतौर पर ब्रेड बनाने के लिए उपयोग नहीं किया जाता है, कभी-कभी इसका उपयोग विशेष ब्रेड बनाने के लिए किया जाता है, जैसे कि मध्य पूर्वी पिटा ब्रेड और इटालियन फ़ोकैसिया। इन ब्रेड में एक घने बनावट और अखरोट का स्वाद होता है जो ड्यूरम गेहूं के आटे से आता है।

कूसकूस: कूसकूस एक पारंपरिक उत्तरी अफ्रीकी व्यंजन है जो उबले हुए और सूखे ड्यूरम गेहूं सूजी से बनाया जाता है। इसे अक्सर साइड डिश के रूप में या स्टॉज और टैगिन्स के लिए आधार के रूप में परोसा जाता है।

बुलगुर: बुलगुर एक प्रकार का फटा हुआ गेहूं है जिसे आंशिक रूप से पकाए गए ड्यूरम गेहूं के जामुन से बनाया जाता है जिसे सुखाया जाता है और फिर फोड़ा जाता है। यह आमतौर पर मध्य पूर्वी और भूमध्यसागरीय व्यंजनों में उपयोग किया जाता है, और अक्सर इसका उपयोग तब्बौलेह सलाद बनाने के लिए किया जाता है।

अन्य व्यंजन: ड्यूरम गेहूं का उपयोग कई अन्य व्यंजनों में भी किया जाता है, जैसे कि पुलाव, दलिया और सूप। कई संस्कृतियों में, इसे एक मुख्य भोजन माना जाता है जिसका उपयोग कई प्रकार के व्यंजनों में किया जाता है।

कुल मिलाकर, ड्यूरम गेहूं एक महत्वपूर्ण फसल है जो कई अलग-अलग देशों और क्षेत्रों की पाक परंपराओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसकी बहुमुखी प्रतिभा और अद्वितीय गुण इसे व्यंजनों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए एक लोकप्रिय विकल्प बनाते हैं।

ड्यूरम गेहूं भारतीय व्यंजनों में एक बहुमुखी सामग्री है और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में किया जाता है। भारत में ड्यूरम गेहूं से बने कुछ लोकप्रिय व्यंजन इस प्रकार हैं:

देसी शैली का पास्ता – यह व्यंजन इतालवी पास्ता और भारतीय मसालों का मिश्रण है। पास्ता आमतौर पर विभिन्न प्रकार की सब्जियों और मसालों जैसे कि जीरा, धनिया, हल्दी और गरम मसाला के साथ पकाया जाता है।

भारतीय शैली लसग्ना – यह पास्ता, पनीर और मसालेदार टमाटर-आधारित सॉस की परतों से बना एक लोकप्रिय व्यंजन है।

रोटी – रोटी एक प्रकार की फ्लैटब्रेड है जो आमतौर पर भारत के उत्तरी भागों में ड्यूरम गेहूं के आटे से बनाई जाती है। आटे को पतले, गोलाकार आकार में बेलकर तवे पर पकाया जाता है।

मठरी – यह एक स्वादिष्ट नाश्ता है जो दुरुम गेहूं के आटे, मसालों और घी से बनाया जाता है।

नमक पारे – यह एक कुरकुरी नमकीन है जिसे दुरुम गेहूं के आटे, तेल और नमक से बनाया जाता है।

ड्यूरम व्हीट ब्रेड – ड्यूरम व्हीट का उपयोग भारत में ब्रेड बनाने के लिए भी किया जाता है। यह आमतौर पर एक प्रकार की ब्रेड बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है जिसे ‘आटा ब्रेड’ कहा जाता है, जो नरम, फूली हुई और हल्की मिठास वाली होती है।

सेवइयां – यह एक लोकप्रिय मिठाई है जिसे ड्यूरम गेहूं, दूध, चीनी और इलायची से बने पतले सेंवई नूडल्स से बनाया जाता है।

ड्यूरम गेहूं का इतिहास –  History of Durum Wheat in Hindi

ड्यूरम गेहूं, जिसे ट्रिटिकम ड्यूरम के नाम से भी जाना जाता है, गेहूं की एक कठिन, उच्च-प्रोटीन किस्म है जिसकी खेती हजारों वर्षों से की जाती रही है। यहाँ ड्यूरम गेहूं के इतिहास का संक्षिप्त विवरण दिया गया है:

उत्पत्ति: माना जाता है कि ड्यूरम गेहूं की उत्पत्ति मध्य पूर्व में हुई थी, संभवतः आधुनिक तुर्की या सीरिया के क्षेत्र में। संभवतः इसे लगभग 7000 ईसा पूर्व में पालतू बनाया गया था, जिससे यह दुनिया की सबसे पुरानी खेती वाली फसलों में से एक बन गई।

फैलाव: मध्य पूर्व में इसकी उत्पत्ति से, ड्यूरम गेहूं भूमध्यसागरीय क्षेत्र में और अंततः दुनिया के अन्य भागों में फैल गया। यह प्राचीन यूनानियों और रोमनों द्वारा यूरोप में और बाद में यूरोपीय उपनिवेशवादियों द्वारा अमेरिका में पेश किया गया था।

महत्व: ड्यूरम गेहूं ने पूरे इतिहास में कई संस्कृतियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। प्राचीन रोम में, इसे एक लक्ज़री भोजन माना जाता था और अक्सर इसे दावतों में परोसा जाता था। मध्य पूर्वी और भूमध्यसागरीय संस्कृतियों में, यह हजारों वर्षों से मुख्य भोजन रहा है, और आज भी व्यापक रूप से पास्ता, कूसकूस और बुलगुर जैसे व्यंजनों में उपयोग किया जाता है।

किस्में: समय के साथ, अलग-अलग बढ़ती परिस्थितियों और पाक संबंधी जरूरतों के अनुरूप ड्यूरम गेहूं की विभिन्न किस्मों को विकसित किया गया है। सबसे लोकप्रिय किस्मों में से कुछ में सेनेटोर कैपेली शामिल हैं, जो आमतौर पर इटली में पास्ता उत्पादन में उपयोग किया जाता है, और मार्क्विस, जो 20 वीं शताब्दी के मध्य तक उत्तरी अमेरिका में एक लोकप्रिय किस्म थी।

आधुनिक खेती: आज, ड्यूरम गेहूं अभी भी दुनिया के कई हिस्सों में एक महत्वपूर्ण फसल है, खासकर भूमध्यसागरीय और मध्य पूर्वी देशों में। यह उत्तरी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे अन्य क्षेत्रों में भी उगाया जाता है। आधुनिक खेती तकनीकों ने पैदावार और गुणवत्ता में सुधार किया है, जिससे यह किसानों और खाद्य उत्पादकों के लिए एक विश्वसनीय और बहुमुखी फसल बन गई है।

कुल मिलाकर, ड्यूरम गेहूं का एक समृद्ध इतिहास है जो हजारों वर्षों और कई अलग-अलग संस्कृतियों तक फैला हुआ है। मुख्य फसल के रूप में इसका महत्व और खाना पकाने में एक बहुमुखी सामग्री ने यह सुनिश्चित किया है कि यह आज भी कई व्यंजनों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना हुआ है।

विभिन्न क्षेत्रों में ड्यूरम गेहूं का ऐतिहासिक महत्व – 

ड्यूरम गेहूं ने दुनिया भर के कई क्षेत्रों के इतिहास और संस्कृतियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, विशेष रूप से भूमध्यसागरीय और मध्य पूर्वी क्षेत्रों में जहां इसकी उत्पत्ति हुई थी।

durum wheat in hindi

प्राचीन काल में, ड्यूरम गेहूं प्राचीन यूनानियों और रोमनों के लिए एक मुख्य फसल थी, जो इसे रोटी, दलिया और अन्य खाद्य पदार्थ बनाने के लिए इस्तेमाल करते थे। रोमनों ने एक प्रकार का पास्ता बनाने के लिए ड्यूरम गेहूं का भी इस्तेमाल किया, जिसे लगान कहा जाता है, जिसे पास्ता के शुरुआती रूपों में से एक माना जाता है।

दुरुम गेहूं ने इस्लामी सभ्यता के विकास में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जहां यह पारंपरिक मध्य पूर्वी व्यंजन जैसे तब्बौलेह और किब्बेह में एक प्राथमिक घटक था। इस्लामी स्वर्ण युग में भी यह एक महत्वपूर्ण फसल थी, जब विद्वानों और वैज्ञानिकों ने गणित, चिकित्सा और खगोल विज्ञान जैसे क्षेत्रों में महत्वपूर्ण प्रगति की थी।

इटली में, ड्यूरम गेहूं सदियों से पारंपरिक इतालवी व्यंजनों का प्रमुख घटक रहा है। इतालवी किसानों ने ड्यूरम गेहूं की कई अलग-अलग किस्में विकसित की हैं, और यह पास्ता व्यंजन जैसे स्पेगेटी, लसग्ना और फेटुक्साइन में प्राथमिक सामग्री है।

ड्यूरम गेहूं ने उत्तरी अमेरिका में कृषि के इतिहास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 19वीं शताब्दी के अंत में इतालवी अप्रवासी ड्यूरम गेहूं को संयुक्त राज्य अमेरिका में लाए, और यह जल्द ही नॉर्थ डकोटा और मोंटाना जैसे राज्यों में एक महत्वपूर्ण फसल बन गया। आज, इन क्षेत्रों में ड्यूरम गेहूं अभी भी एक महत्वपूर्ण फसल है, जहां इसका उपयोग पास्ता और अन्य खाद्य पदार्थ बनाने के लिए किया जाता है।

कुल मिलाकर, ड्यूरम गेहूं का ऐतिहासिक महत्व दुनिया भर के कई अलग-अलग क्षेत्रों में कृषि, व्यापार और व्यंजनों के विकास से निकटता से जुड़ा हुआ है। इसके लचीलेपन, पोषण मूल्य और बहुमुखी प्रतिभा ने यह सुनिश्चित किया है कि यह आज भी एक महत्वपूर्ण फसल बनी हुई है।

ड्यूरम गेहूं का पोषण मूल्य –  Nutritional Value of Durum Wheat in Hindi

ड्यूरम गेहूं अत्यधिक पौष्टिक फसल है जो विटामिन, खनिज और अन्य लाभकारी पोषक तत्वों से भरपूर है। ड्यूरम गेहूं के कुछ प्रमुख पोषण संबंधी लाभ इस प्रकार हैं:

  • फाइबर में उच्च: ड्यूरम गेहूं आहार फाइबर का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो पाचन स्वास्थ्य को बनाए रखने और हृदय रोग, मधुमेह और कुछ प्रकार के कैंसर जैसी पुरानी बीमारियों को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है।
  • प्रोटीन से भरपूर: ड्यूरम गेहूं प्लांट-आधारित प्रोटीन का भी एक अच्छा स्रोत है, जो शरीर में ऊतकों के निर्माण और मरम्मत के लिए आवश्यक है। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जो शाकाहारी या शाकाहारी आहार का पालन करते हैं।
  • विटामिन और खनिजों से भरपूर: ड्यूरम गेहूं आयरन, जिंक, मैग्नीशियम और विटामिन बी 6 सहित विटामिन और खनिजों की एक श्रृंखला से भरपूर है। अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने और पोषक तत्वों की कमी को रोकने के लिए ये पोषक तत्व आवश्यक हैं।
  • वसा और कोलेस्ट्रॉल में कम: ड्यूरम गेहूं स्वाभाविक रूप से वसा में कम होता है और इसमें कोई कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है, जो इसे उन लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प बनाता है जो अपने वजन को प्रबंधित करने या स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं।
  • ग्लूटेन सामग्री: ड्यूरम गेहूं एक प्रकार का गेहूं है जिसमें ग्लूटेन होता है, जो एक प्रोटीन है जो ग्लूटेन संवेदनशीलता या सीलिएक रोग वाले लोगों के लिए पाचन संबंधी समस्याएं पैदा कर सकता है। हालांकि, जो लोग लस को सहन कर सकते हैं, उनके लिए ड्यूरम गेहूं संतुलित आहार के लिए एक स्वस्थ अतिरिक्त हो सकता है।

ड्यूरम गेहूं एक अत्यधिक पौष्टिक फसल है जो एक स्वस्थ, संतुलित आहार के हिस्से के रूप में शामिल किए जाने पर कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकती है।

दुरुम गेहूं के सेवन के स्वास्थ्य लाभ – Health Benefits of Consuming Durum Wheat in Hindi

ड्यूरम गेहूं एक अत्यधिक पौष्टिक फसल है जो संतुलित आहार के हिस्से के रूप में सेवन करने पर कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है। ड्यूरम गेहूं के सेवन के कुछ प्रमुख स्वास्थ्य लाभ इस प्रकार हैं:

  • बेहतर पाचन: ड्यूरम गेहूं आहार फाइबर में उच्च होता है, जो स्वस्थ पाचन को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। फाइबर मल त्याग को नियंत्रित करने, कब्ज को रोकने और पाचन तंत्र को स्वस्थ और ठीक से काम करने में मदद करता है।
  • हृदय रोग का कम जोखिम: ड्यूरम गेहूं का सेवन हृदय रोग के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। ड्यूरम गेहूं में फाइबर, विटामिन और खनिज रक्तचाप को कम करने, सूजन को कम करने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करने में मदद कर सकते हैं, ये सभी हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • मधुमेह का कम जोखिम: ड्यूरम गेहूं की उच्च फाइबर सामग्री टाइप 2 मधुमेह के विकास के आपके जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकती है। फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने, इंसुलिन प्रतिरोध को रोकने और समग्र ग्लूकोज नियंत्रण में सुधार करने में मदद करता है।
  • ऊर्जा के स्तर में वृद्धि: ड्यूरम गेहूं जटिल कार्बोहाइड्रेट का समृद्ध स्रोत है, जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए आवश्यक हैं। दुरुम गेहूं का सेवन करने से आपको पूरे दिन भरा हुआ और ऊर्जावान महसूस करने में मदद मिल सकती है।
  • बेहतर हड्डियों का स्वास्थ्य: ड्यूरम गेहूं कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, ये सभी स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं। ड्यूरम गेहूं का सेवन हड्डियों के घनत्व में सुधार करने और ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

कुल मिलाकर, संतुलित आहार के हिस्से के रूप में दुरुम गेहूं का सेवन स्वास्थ्य लाभ की एक श्रृंखला प्रदान कर सकता है, जिसमें बेहतर पाचन, हृदय रोग और मधुमेह का कम जोखिम, ऊर्जा के स्तर में वृद्धि और हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार शामिल है।

ड्यूरम गेहूं हिंदी में: अनुवाद, अन्य नाम और महत्व –  Durum Wheat in Hindi: Translation, Other Names, and Importance

ड्यूरम गेहूं एक प्रकार का गेहूं है जो आमतौर पर पास्ता के उत्पादन में प्रयोग किया जाता है। यह एक कठोर गेहूं की किस्म है जो प्रोटीन और ग्लूटेन से भरपूर होती है। भारत में, ड्यूरम गेहूं एक महत्वपूर्ण फसल है जिसकी खेती कई राज्यों में की जाती है। भारतीय उपभोक्ता अक्सर ड्यूरम गेहूं के हिंदी नाम की तलाश करते हैं, खासकर जब वे इसे स्थानीय बाजारों से खरीद रहे हों। इस लेख में हम (Durum Wheat in Hindi) ड्यूरम गेहूं का हिंदी में अनुवाद, ड्यूरम गेहूं के हिंदी में अन्य नाम और भारतीय उपभोक्ताओं के लिए ड्यूरम गेहूं का हिंदी नाम जानने के महत्व पर चर्चा करेंगे।

ड्यूरम गेहूं का हिंदी में अनुवाद –  Durum Wheat meaning in Hindi

दुरुम गेहूं का हिंदी नाम सूजी गेहूँ (सूजी गेहु) है। शब्द “सूजी” सूजी को संदर्भित करता है, जो एक मोटे, शुद्ध गेहूं का मिश्रण है जो आमतौर पर भारतीय व्यंजनों में उपयोग किया जाता है। गेहू शब्द का अर्थ गेहूँ होता है। इसलिए, ड्यूरम गेहूं का हिंदी नाम शाब्दिक रूप से “सूजी गेहूं” के रूप में अनुवादित होता है।

durum wheat in hindi

ड्यूरम गेहूं के अन्य नाम हिंदी में –  Durum Wheat semolina in Hindi

ड्यूरम गेहूं को क्षेत्र और बोली के आधार पर हिंदी में अन्य नामों से भी जाना जाता है। हिंदी में ड्यूरम गेहूं के कुछ सामान्य नाम इस प्रकार हैं:

  • रवा गेहूं (रवा गेहू): यह नाम आमतौर पर भारत के उत्तरी राज्यों में प्रयोग किया जाता है और सूजी गेहूं को संदर्भित करता है।
  • सूजी धान (सूजी सुधन): यह नाम आमतौर पर भारत के पूर्वी राज्यों में प्रयोग किया जाता है और सूजी चावल को संदर्भित करता है।
  • दलिया गेहूँ (दलिया गेहू): यह नाम आमतौर पर भारत के पश्चिमी राज्यों में उपयोग किया जाता है और टूटे हुए गेहूं को संदर्भित करता है।
  • बुलगर गेहूँ (bulgur gehu): यह नाम आमतौर पर भारत के दक्षिणी राज्यों में उपयोग किया जाता है और फटा हुआ गेहूं को संदर्भित करता है।

ड्यूरम गेहूं उगाना: आदर्श जलवायु और मिट्टी की स्थिति, खेती की तकनीकें, और भारत में प्रमुख उत्पादक क्षेत्र

ड्यूरम गेहूं, एक अनाज का दाना है जिसकी दुनिया भर में व्यापक रूप से खेती की जाती है, पास्ता बनाने में एक आवश्यक घटक है। यह एक दृढ़ बनावट और समृद्ध सुनहरे रंग के साथ अत्यधिक पौष्टिक अनाज है। भारत विश्व स्तर पर ड्यूरम गेहूं के प्रमुख उत्पादकों में से एक है। यह लेख भारत में ड्यूरम गेहूं उगाने, खेती और कटाई की तकनीक और प्रमुख ड्यूरम गेहूं उत्पादक क्षेत्रों के लिए आदर्श जलवायु और मिट्टी की स्थिति की पड़ताल करता है।

ड्यूरम गेहूं उगाने के लिए आदर्श जलवायु और मिट्टी की स्थिति –

ड्यूरम गेहूं विभिन्न जलवायु और मिट्टी के अनुकूल होने के लिए जाना जाता है। हालांकि, ड्यूरम गेहूं उगाने के लिए आदर्श जलवायु और मिट्टी की स्थिति विशिष्ट है। फसल को मध्यम से कम वर्षा के साथ शुष्क, गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है। फसल के लिए आदर्श तापमान सीमा 15°C से 25°C के बीच है। 25 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तापमान वाले क्षेत्रों में, फसल गर्मी के तनाव से पीड़ित हो सकती है।

ड्यूरम गेहूं 6.5 से 8.5 के पीएच रेंज के साथ अच्छी तरह से सूखा, उपजाऊ मिट्टी को तरजीह देता है। फसल हल्की लवणीय मिट्टी को सहन कर सकती है लेकिन अत्यधिक लवणीय मिट्टी में अच्छी तरह से विकसित नहीं हो सकती है। मिट्टी में अच्छी जल धारण क्षमता और पर्याप्त जल निकासी भी होनी चाहिए। इष्टतम पैदावार सुनिश्चित करने के लिए मिट्टी की तैयारी महत्वपूर्ण है। भूमि की जुताई और हैरो से किसी भी प्रकार के ढेलों को तोड़ना चाहिए और बीजों के लिए अच्छी क्यारी बनानी चाहिए।

खेती और कटाई तकनीक –  Cultivation and Harvesting Techniques

ड्यूरम गेहूं आमतौर पर अक्टूबर और दिसंबर के बीच बोया जाता है और अप्रैल और मई के बीच काटा जाता है। फसल आमतौर पर पंक्तियों में या प्रसारित होती है, और बीज दर 80-120 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर तक होती है। बुवाई की गहराई लगभग 3-5 सेमी होनी चाहिए, और पंक्तियों के बीच की दूरी 22.5-30 सेमी होनी चाहिए।

ड्यूरम गेहूं के लिए सिंचाई विशेष रूप से फसल विकास के महत्वपूर्ण चरणों के दौरान महत्वपूर्ण है। क्षेत्र और मिट्टी के प्रकार के आधार पर फसल को 4-5 सिंचाइयों की आवश्यकता होती है। इष्टतम पैदावार के लिए पर्याप्त उर्वरीकरण आवश्यक है। ड्यूरम गेहूं को 60:40:20 के अनुपात में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम की आवश्यकता होती है।

ड्यूरम गेहूं की कटाई आमतौर पर हाथ से या कंबाइन हारवेस्टर की मदद से की जाती है। फसल की कटाई तब की जाती है जब अनाज में नमी की मात्रा लगभग 12-14% होती है। इसके बाद अनाज को पुआल से अलग करने के लिए इसकी थ्रेसिंग और फटक दी जाती है।

भारत में प्रमुख ड्यूरम गेहूं उत्पादक क्षेत्र –  Major Durum Wheat Producing Regions in India

भारत विश्व स्तर पर ड्यूरम गेहूं के प्रमुख उत्पादकों में से एक है। फसल मुख्य रूप से राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश राज्यों में उगाई जाती है। राजस्थान भारत में ड्यूरम गेहूं का सबसे बड़ा उत्पादक है, इसके बाद महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश का स्थान है। ड्यूरम गेहूं की खेती करने वाले अन्य राज्यों में गुजरात, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश शामिल हैं।

राजस्थान के बीकानेर और जोधपुर जिले, महाराष्ट्र के जालना, बीड और लातूर जिले और मध्य प्रदेश के इंदौर, उज्जैन और धार जिले भारत में प्रमुख ड्यूरम गेहूं उत्पादक क्षेत्र हैं। इन क्षेत्रों में ड्यूरम गेहूं उगाने के लिए आदर्श जलवायु और मिट्टी की स्थिति है और इष्टतम पैदावार सुनिश्चित करने के लिए आधुनिक खेती और कटाई तकनीकों का उपयोग करते हैं।


निष्कर्ष

ड्यूरम गेहूं, जिसे पास्ता गेहूं के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का सख्त गेहूं है जिसका उपयोग मुख्य रूप से पास्ता, कूसकूस और कुछ ब्रेड बनाने के लिए किया जाता है। हालांकि यह भारत में सामान्य रूप से अन्य प्रकार के गेहूं के रूप में नहीं उगाया जाता है, फिर भी यह कुछ क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण फसल है। ड्यूरम गेहूं कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत है और इसके सेवन से कई स्वास्थ्य लाभ जुड़े हैं।

Leave a Comment