Homeस्वास्थ्यKodo Millet in Hindi - में क्या कहते हैं? Kodo Millet क्या...

Kodo Millet in Hindi – में क्या कहते हैं? Kodo Millet क्या है?

Kodo Millet in Hindi मैं इसे केद्रव कहा जाता है. धान और गेहूं जैसा इसकी भी खेती की जाती है और एक नजर देखने में यह धान के पौधे जैसा दिखता है. लेकिन इसकी खास बात यह है कि धान और गेहूं में जिस परिमाण मेहनत और खेती की सामग्री जैसे कि खाद और पानी की जरूरत होती है. इसमें काफी कम परिश्रम और सामग्री से इसकी खेती संभव है.

हम आपको केद्रव यानी Kodo Millet बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं. जैसे कि इसमें कई सारे औषधीय गुण मौजूद होते हैं जिसके द्वारा बहुत सारे लोगों से निजात पाया जा सकता है. उदाहरण स्वरूप – पेट की समस्या, बवासीर, बालों का समस्या रूसी, बाल झड़ना, वजन घटाना, शरीर में खून की कमी ना होने देना काफी लाभकारी स्वास्थ्य गुण इसमें मौजूद है. (Kodo Millet in Hindi)

जोड़ों में दर्द, घुटनों में दर्द या कफ पित्त दोष मैं कोदो (kodo Millet) के सेवन के द्वारा काफी लाभ मिलता है. और यह एक ऐसा अनाज है जो सालों साल रख देने पर भी खराब नहीं होता और इस अनाज में कीड़े मकोड़े भी नहीं लगते हैं. तो आइए जानते हैं इस अनाज के बारे में के किस प्रकार इस अनाज का सेवन किया जाए ताकि इसका पूरा लाभ मिले.

केद्रव या कोदो क्या है? (What is Kodo Millet in Hindi)

केद्रव अनाज के पौधे 60 से लेकर 150cm तक ऊंचा होते हैं और इसके पत्तों का लंबाई 15 से 40 सेंटीमीटर और चौड़ाई 5 से 12 मिलीमीटर होते हैं. रोपण कार्य में इस्तेमाल होने वाले केद्रव के बीज चमकीले गहरे नीले या बैगनी रंग के गोल सरसों के दाने जैसे होते हैं. और यह अनाज पूरी तरह से परिपक्व होने के बाद कॉफी यह चॉकलेट जैसा सावला रंग का हो जाता है.

अलग-अलग भाषाओं में केंद्रक का नाम – (Name Of Kodo in Hindi)

Kodo(कोदो) या केद्रव का वैज्ञानिक नाम Paspalum Scrobiculatum है. इसकी खेती भारत, फिलीपींस, इंडोनेशिया, वियतनाम, थाईलैंड और पश्चिमी अफ्रीका में काफी मात्रा में किया जाता है. और अलग-अलग देशों में इसे स्थानीय भाषाओं में अलग नामों से जाना जाता है आइए जानते हैं भारत के अन्य राज्यों में इसे किस नामों से जाना जाता है.

• Hindi – केद्रव, कोदो धान, कोदो
• Kannada – हरिका
• Oriya – कोदस
• Sanskrit – केद्रव
• Gujarati – कोदरा, मेन्या
• Telegu – कीरारूगा, अरिकुल
• Tamil – वरागु, वराकु
• Nepali – जनै घास
• Bengali – कोदोयाधान
• Malayalam – वाराकु
• Punjabi – कोडॉन्न
• Marathi – कोद्र, हारिक, कोद्रू

Organics Kodo Millet (1 Kg)

Whole Grain

  • ₹329

केद्रव के अनोखे फायदे और उपयोग – ( Kodo Benefits in Hindi )

केद्रव को आयुर्वेद विज्ञान में अति लाभकारी औषधि के रूप में जाना जाता है और इसका प्रयोग किया जाता है इस से होने वाले फायदे इसके सेवन मात्र से ही मिल सकते हैं अलग-अलग रोगों में इसे अलग-अलग रूप में और मात्रा से रोगी को दिया जाता है तो आइए जानते हैं केद्रव के फायदों के बारे में Kodo Millet in Hindi में.

Kodo Millet in Hindi

भारत के प्राचीन अन्न में से एक है कोदो (केद्रव). इसके हर एक दाने में 65.9 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 8.3 प्रतिशत प्रोटीन और 1.4 प्रतिशत बसा उपलब्ध होती है साथी चावल के मुकाबले 12 गुना अधिक कैल्शियम किसमें पाया जाता है. हाई ब्लड प्रेशर रोगियों के लिए रामबाण औषधि है कोदो (केद्रव).

2009 में छपी एक विदेशी जर्नल के मुताबिक शुगर के रोगियों के लिए Kodo Millet (केद्रव) को अति स्वास्थ्य कारी बताया गया है. इसमें फाइबर की मात्रा अधिक पाई जाती है जिसके कारण जो लोग मोटापा घटाना चाहते हैं उनको भी इसके सेवन द्वारा काफी लाभ मिलता है. इसके सेवन से आपके शरीर में आयरन की कमी नहीं होती और यह शरीर के कई पौष्टिक तत्व को पूरा करने में सक्षम है.

1. रक्त को साफ करें

कोदो आपके शरीर में ब्लड प्यूरीफायर जैसा काम करता है अगर खून में किसी भी प्रकार की गंदगी हो इसके सेवन धारा आप अपने खून को साफ कर सकते हैं. और खून साफ होने पर आपके त्वचा संबंधित समस्याओं से निजात मिलता है. जो लोग एनीमिया से ग्रसित होते हैं जिनकी शरीर में खून की कमी होती है उनके लिए भी यह एक रामबाण औषधि है.

2. डायबिटीज पेशेंट जरूर खाएं

जिन लोगों को डायबिटीज है उनके लिए भी कोदो एक औषधि से कम नहीं इसके सेवन से आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं. डायबिटीज पेशेंट इसे आज ही अपने भोजन में शामिल करें और फर्क देखें.

3. अनिद्रा से राहत

आजकल की जिंदगी में बहुत से लोगों को अनिद्रा की समस्या बनी रहती है. अगर आप यह आपके परिवार के व्यक्ति अनिद्रा से ग्रसित हैं तो आप उन्हें कोदो का सेवन करने की सलाह दें यह अनिद्रा के मरीजों के लिए एक नींद वर्धक औषधि के रूप में काम करता है.

4. कैंसर और अन्य रोगों का का इलाज

कोदो ब्लड कैंसर, इंटेस्टाइन कैंसर, थाइरोइड, और लीवर के सभी समस्याओं का समाधान भी है. अगर आप कोदो खाते हैं अपने भोजन में तो आपको इन सभी समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा.

5. बच्चों के लिए भी फायदेमंद

कोदो का जो पोषण मात्रा है वह काफी अधिक होता है इसे आप 9 महीने के बच्चे को भी दे सकते हैं. और इसमें काफी अधिक मात्रा में मिनिरल्स भी होते हैं जो पाचन शक्ति को बढ़ाता है और इसे आप बच्चों को पकाकर इसका काढ़ा बना ले और बच्चों के भोजन में शामिल करें.

6. मोटापा घटाने में मददगार

कोदो जो होता है वह काफी हाई एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और यह शरीर में शुगर की मात्रा धीरे-धीरे छोड़ता है इससे आपको भूख भी कम लगती है और आप कोदो बनाया हुआ चावल या कोई भी चीज खा ले तो आपको काफी लंबे समय तक भूख नहीं लगेगी और यह मोटापा घटाने में भी मददगार साबित होता है.

7. बवासीर से राहत

बवासीर काफी दर्द देने वाला रोग है अगर सही समय पर इसका इलाज ना किया जाए तो ऑपरेशन की भी नौबत आ सकती है. लेकिन कोदो का भात बना कर इसे किसी भी प्रकार के जूस में मिलाकर बवासीर के रोगियों को रोजाना खिलाया जाए तो उन्हें इसकी समस्या से छुटकारा मिल सकता है.

8. शरीर का पोषण पूरा करें

दोस्तों अगर आप कोदो को मसूर दाल बंगाल चना के साथ खाते हैं तो इससे आपको पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व मिल जाते हैं जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं.

कोदो का उपयोग कैसे करें – How To Use Kodo Millet in Hindi

कोदो को पकाने से पहले कम से कम भिगो के रख दे 4 से 6 घंटे तक. इस अनाज को जितना भी पानी चाहिए इसको सोख लेने दे ताकि आप भोजन में जब इसको खाएं तो आसानी से यह पच जाए. अगर आप इसका आटा बनाने का सोच रहे हैं तो इसे पहले भिगोकर उसके बाद सूरज की रोशनी में रख दें फिर सुखाकर इसका आटा बनाएं इससे आटा भी नरम होता है और आटा गूंथ कर पकाने के बाद खाने में काफी स्वादिष्ट लगता है.

कोदो की रेसिपी – ( Kodo Millet recipe in Hindi )

कोदो से बनने वाले कोई भी भोजन पोस्टिक तत्वों से भरपूर होता है लेकिन खाने में अलग-अलग भोजन अलग-अलग स्वाद का होता है आइए जानते हैं कोदो से बनने वाले भजनों के बारे में आपको इनमें से जो भी पसंद आए आप उसे अपने घर पर बना सकते हैं.

•कोदो का सूप ( Kodo Millets Soup )
•कोदो का उपमा ( Kodo Millet Upma )
•कोदो मिक्स दाल डोसा ( Kodo Millet Mix Dal Dosa )
•कोदो वेगण खीर ( Kodo Millet Vegan Kheer )
•कोदो इडली ( Kodo Millet Idlis )
•कोदो पुलाओ ( Kodo Millet Pulao )
•कोदो मूंग मसूर दाल डोसा ( Kodo Dal Dosa )
•कोदो खिचड़ी ( Kodo Millet Khichadi )
•कोदो बर्गर ( Kodo Millet Burger )

इस लेख में, हम कुछ स्वादिष्ट कोदो बाजरे की रेसिपी के बारे में जानेंगे जिन्हें आप घर पर ट्राई कर सकते हैं।

कोदो मिलेट खिचड़ी: खिचड़ी चावल और दाल से बनने वाला एक लोकप्रिय भारतीय व्यंजन है। कोदो बाजरे की खिचड़ी बनाने के लिए 1 कप कोदो बाजरा और 1/4 कप मूंग दाल को एक घंटे के लिए पानी में भिगो दें। पानी निथारें और बाजरा और दाल को 2 कप पानी, एक चुटकी हल्दी और थोड़ा नमक के साथ प्रेशर कुकर में डालें। 2-3 सीटी आने तक या बाजरा और दाल के नरम होने तक पकाएं। अतिरिक्त पोषण के लिए आप कुछ सब्जियां जैसे गाजर, मटर और बीन्स भी मिला सकते हैं।

कोदो बाजरा डोसा: डोसा एक लोकप्रिय दक्षिण भारतीय व्यंजन है जिसे चावल और दाल के किण्वित घोल से बनाया जाता है। कोदो बाजरा डोसा बनाने के लिए 1 कप कोदो बाजरा और 1/4 कप उड़द दाल को 4-5 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। बाजरा और दाल को अलग-अलग पीस कर चिकना बैटर बना लें। दोनों बैटर को एक साथ मिलाएं और थोड़ा नमक डालें। बैटर को 8-10 घंटे या रात भर के लिए फरमेंट होने दें। खमीर उठने के बाद, बैटर को गरम तवे पर डालें और पतले गोले में फैला दें। डोसे को गोल्डन ब्राउन और क्रिस्पी होने तक पकाएं. चटनी या सांबर के साथ परोसें।

कोदो मिलेट इडली: इडली एक लोकप्रिय दक्षिण भारतीय स्टीम्ड केक है जिसे आमतौर पर चावल और दाल के किण्वित बैटर के साथ बनाया जाता है। कोदो बाजरे की इडली बनाने के लिए 1 कप कोदो बाजरा और 1/4 कप उरद दाल को 4-5 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। बाजरा और दाल को अलग-अलग पीस कर चिकना बैटर बना लें। दोनों बैटर को एक साथ मिलाएं और थोड़ा नमक डालें। बैटर को 8-10 घंटे या रात भर के लिए फरमेंट होने दें। खमीर उठने के बाद घोल को इडली के सांचे में डालें और 10-15 मिनट के लिए भाप में पका लें। चटनी या सांबर के साथ परोसें।

कोदो बाजरा पुलाव: पुलाव एक लोकप्रिय चावल का व्यंजन है जिसे किसी भी प्रकार के अनाज से बनाया जा सकता है। कोदो बाजरे का पुलाव बनाने के लिए एक पैन में थोड़ा सा तेल गर्म करें और इसमें साबुत मसाले जैसे दालचीनी, इलायची और तेजपत्ता डालें। कटे हुए प्याज़ डालकर सुनहरा भूरा होने तक भूनें। 1 कप कोदो बाजरा और 2 कप पानी डालें और उबाल आने दें। आँच को कम करें और 10-15 मिनट तक या बाजरा के पकने तक और पानी सोखने तक उबालें। अतिरिक्त स्वाद के लिए आप कुछ सब्जियां और नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

ये कई स्वादिष्ट कोदो बाजरा व्यंजनों में से कुछ हैं जिन्हें आप घर पर आजमा सकते हैं। इसके पौष्टिक स्वाद और उच्च पोषण मूल्य के साथ, कोदो बाजरा एक बहुमुखी अनाज है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में किया जा सकता है। तो, आगे बढ़ें और इन व्यंजनों को आजमाएं और कोदो मिलेट के स्वास्थ्य लाभों का आनंद लें।

और भी ढेरों हैं रेसिपी लेकिन सभी लिखना यहां संभव नहीं है. ऊपर दिया हुआ कोई भी रेसिपी अगर आपको पसंद आता है तो गूगल पर उसे लिखकर सर्च करें और उसकी बनाने की विधि को ध्यान से पढ़ कर यह देख कर एक स्वादिष्ट भोजन बनाएं. ( Kodo Millet in Hindi )

-: Proso Millet in Hindi में क्या कहते हैं?

Sanu Kumar
Sanu Kumar
नमस्कार दोस्तों, मैं Sanu Kumar, HindiTrends(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiTrends Team Support DIGITAL INDIA
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular