What is Sensex and NIFTY in Hindi – Sensex और NIFTY क्या है

Sensex और NIFTY का महत्व - Sensex और NIFTY कैसे बनता है - What is Sensex and NIFTY in Hindi - Sensex और NIFTY क्या है

What-is-Sensex-and-Nifty-in-hindi

आज Sensex 100 Point नीचे तो कल 100 Point ऊपर कभी NIFTY 50 Point नीचे तो किसी दिन ऊपर हर रोज यह Sensex और NIFTY ऊपर नीचे होते रहते हैं तो कई बार आप लोगों के मन में सवाल आता होगा कि आखिर What is SENSEX and NIFTY in Hindi में यह Sensex और NIFTY दर्शाते क्या है। यह कैसे बने हुए हैं और ये ऊपर नीचे क्यों होते हैं! क्यों क्या? वो Reason है कि रोज Fluctuate होते हैं

आज इस आर्टिकल में मैं आपको समझाऊंगा What is SENSEX and NIFTY in Hindi Sensex और NIFTY के बारे में सब कुछ की इनके Daily Movement क्यों होते हैं! और आपको उन्हें कैसे समझना है ताकि आप इनके Movement के आधार पे सही फैसला ले सकें। नमस्कार दोस्तों मैं हूं सानू और आज हम जानते हैं NIFTY और Sensex का पूरा सच।

What is Sensex and NIFTY in Hindi में !

तो दिन भर ना जाने कितने ही बिजनेस न्यूज़ चैनल Sensex और NIFTY में उतार-चढ़ाव को रियल टाइम लाइव रिपोर्ट करते रहते हैं। जैसे दुनिया की सबसे जरूरी चीज यहीं हो गई और Sensex अगर 200 Point गिर जाएगा तो पता नहीं क्या हो जाएगा तो आज मैं आपको बताता हूं कि यह Sensex और NIFTY है क्या?

देखिए चुनाव में हम सब देखते हैं कि जब भी चुनाव होते हैं तो Opinion poll या Exit poll आते है रिजल्ट के पहले Exit Poll आ जाते हैं तो ये Exit Polls क्यों आते है इसका सहज कारण है ताकि आपको एक अंदाजा लग जाएगी यह इलेक्शन किस तरफ जाने वाला है। लेकिन हमेशा Exit Polls सही हो ऐसा जरूरी नहीं ज्यादातर समय 60%-70% Off the Time Exit Poll सही होते हैं।

What-is-Sensex-and-Nifty-in-hindi
What is Sensex and NIFTY in Hindi – Sensex और NIFTY क्या है

लेकिन वह हर बार सही नहीं होते क्यों सही नहीं होते क्योंकि Exit Polls में अगर लाखों Voter है तो उनमें से कुछ हजार लोगों से पूछा जाता है एक छोटे से Sample से पूछा जाता है कि आपने किस पार्टी को वोट दिया और उस Sample के हिसाब से ही अंदाजा लगाया जाता है कि लाखों लोगों ने किसे वोट दिया होगा।

तो कई बार वह Sample लाखों लोगों के राय को सही नहीं बता पाता कभी-कभी बता भी देता है तो भारतीय Stock Market में 3500-4000 हजार कंपनियां सूचीबद्ध है। अब उन 4000 हजार कंपनियों का रोज आप Price तो देख नहीं सकते लेकिन आपको एक सामान्य अंदाजा चाहिए कि आज मार्केट कहां जा रहा है।

ज्यादातर कंपनियां आज बढ़ रही है! या आज गिर रही है मार्केट का भाव या दिशा क्या है, तो मूल रूप से Sensex और NIFTY एक तरह का Exit Poll है जो एक छोटे Sample से एक भविष्यवाणी करने की कोशिश करता है कि Overall Market कहां जा रहा है तो Sensex में 30 कंपनियां है NIFTY में 50 कंपनियों है।

और वो 30 कंपनियों के Direction से Sensex आपको एक जनरल राय देता है कि आज मार्केट बढ़ा हुआ है या गिरा हुआ है। वैसे ही NIFTY 50 कंपनियों के छोटे से sample से आपको मार्केट की दिशा से राय देता है। ज्यादातर समय ऐसा होता है कि यह 50 कंपनियां जहा जा रही है क्योंकि यह 50 सबसे बड़ी कंपनियां है जो NIFTY में है वही पूरा मार्केट जाता है।

60%-70% बार यही होता है लेकिन हर बार ऐसा हो यह जरूरी नहीं है।इसीलिए के लिए Sensex और NIFTY पर आपको आंख बंद करके भरोसा नहीं करना है वह बस एक आप का टाइम बचाने के लिए एक सामान्य कम समय में विचार देने के लिए बना हुआ सूची है।

Sensex और NIFTY कैसे बनता है?

देखिए Sensex में है 30 बड़ी कंपनियां और NIFTY में 50 बड़ी कंपनियां है हम Sensex का उदाहरण लेते हैं Sensex में 30 बड़ी कंपनियां है Free Float Market Capitalism के हिसाब से अब बात कर लेते हैं Market Capitalism की

Market Capitalism :- कंपनी के 1 शेयर का दाम कितना है! जैसे कंपनी के 1 शेयर का दाम है ₹20 और उस कंपनी के टोटल शेयर्स कितने हैं तो जैसे किसी कंपनी के अगर 5 शेयर्स है और एक कंपनी के शेयर का दाम है ₹20 तो Price of share x No. Of Shares यानी 5×20 इस Case में हो गया ₹100 तो ये 100 रुपए उस कंपनी का Market Capitalism है।

लेकिन सिर्फ Market Capitalism से कंपनियां Sensex में शामिल नहीं होती Sensex में शामिल होती है Free Flot Market Capitalism से अब Free Flot क्या है? Free Flot याने वह मार्केट Capitalism जो Owners के Shares को हटाकर बचता है जैसे किसी कंपनी के 5 Shares हैं जिसमें से 3 Share कंपनी के Owner के पास ही हैं उन्होंने Stock Exchange के जरिए कभी उसको बाजार में उतारा ही नहीं

What-is-Sensex-and-Nifty-in-hindi
What is Sensex and NIFTY in Hindi – Sensex और NIFTY क्या है

तो वह 3 Share जो कंपनी के Owner पास ही है वह minus हो जाएंगे यानी अब इसी कंपनी के 5 शेयर हैं और ₹20 का एक शहर है उसमें से तीन owner के पास ही है तो इस कंपनी का Free Flot Market Capitalism Count होगा 2 Shares जो पब्लिक के पास है x ₹20 यानी ₹40 तो Sensex में वो 30 कंपनियां है जिनका भारत में Free Flot Market Capitalism सबसे ज्यादा है।

ऐसी 30 कंपनियां अलग-अलग सेक्टर से मिलके आती है जैसे भारत में सबसे ज्यादा वेटेज है financial Service का Banks का NBFC का इस तरह की कंपनियों का IT का भी काफी ज्यादा  वेटेज है। तो अलग अलग से मिलकर जो 30 बड़ी कंपनियां है Free Flot Market Capitalism के हिसाब से वह Sensex का हिस्सा होती है और वह जितना ऊपर नीचे होती है उसके हिसाब से तय होता है कि आज Sensex कितना ऊपर नीचे हो रहा है।

इसी तरह NIFTY जो है उसमें 50 इस तरह की कंपनी चुनी जाती है 50 बड़ी कंपनियां Free Flot Market Capitalism के हिसाब से तो फर्क यही है कि एक में 30 कंपनियां है एक में 50 कंपनी है और इसीलिए हर बार ये दोनों की सूची समान अनुपात मैं नहीं बढ़ते कभी Sensex 1% ऊपर रहता है तो NIFTY 0.5%  ऊपर रहता है क्योंकि उसमें 20 कंपनियां ज्यादा है।

Importance of Sensex and NIFTY – Sensex और NIFTY का महत्व

अब इसमें 2 महत्वपूर्ण मुद्दा है कोई शक नहीं Index, Sensex और NIFTY हमारा बहुत टाइम बचाता है और हमें एक सेकंड में पता चल जाता है कि मार्केट का मूड कैसा है खास करके जब Sensex बहुत ज्यादा बड़ा हो या बहुत ज्यादा गिरा हो तो हम निश्चित रूप से यह कह सकते हैं कि आज मार्केट का मूड खराब ही है लेकिन इस पर पूरी तरीके से आंख बंद करके भरोसा करना भी सही नहीं है।

इसके 2 Limitation (सीमा) है पहला सीमा कि इनमें 30 सबसे बड़ी कंपनियां नहीं है 30 सबसे बड़ी वह कंपनियां हैं जिनका Free Flot Market Capitalism सबसे ज्यादा है। यानी इसे एक उदाहरण से समझते हैं एक मान लीजिए (Company A) है जो 1000 करोड़ की कंपनी है लेकिन उसमें से 750 करोड़ रुपए के Shares Owner के पास खुद ही है यानी वह Free Flot में गिना नहीं जाएगा सिर्फ 250 करोड़ Free Flot में गिना जाएगा तो उस कंपनी को यह माना जाएगा कि 250 करोड़ की कंपनी है।

और एक दूसरी कंपनी है (Company B) जो 500 करोड़ की कंपनी है (Company A) वो आधी Size की है लेकिन इसमें 400 करोड़ के Share पब्लिक के पास केबल 100 करोड़ के Shares Owner के पास है तो क्योंकि Free Flot इसका 400 करोड रुपए का है इस Company B को Company A से बड़ा माना जाएगा और Index (सूची) में इसे ज्यादा महत्व दिया जाएगा।

कहने को (Company B) यह कंपनी आधे Size की है लेकिन Sensex में उसका महत्व ज्यादा होगा और इसके ऊपर या नीचे होने से Sensex ज्यादा ऊपर नीचे होगा। या नहीं यह हमें सही-सही पिक्चर नहीं दिखा रहा? 2nd Problem सिर्फ 30 या 50 कंपनियों के Sample Size से हम 4000 कंपनियों के मूवमेंट को पूरे देश की बड़ी 4000 कंपनियों के भाव को गतिविधि को जांच करने की कोशिश कर रहे हैं।

यह कुछ ऐसा है कि किसी ऐसे स्कूल में जिसमें 4000 बच्चे पढ़ते हैं उसमें आप 30 टॉपर्स को इकट्ठा करो और वह 30 टॉपर अगले टेस्ट में जैसा परफॉर्म कर रहे हैं उसके बेसिस पर आपने पूरे 4000 बच्चों का परफॉर्मेंस मूल्यांकन कर लिया तो यह बहुत ज्यादा सही नहीं हो सकता कई बार गलत पिक्चर भी देगा।

What-is-Sensex-and-Nifty-in-hindi
What is Sensex and NIFTY in Hindi – Sensex और NIFTY क्या है

3rd Problem इसमें थोड़ा Survivor ship Buyers अजता है जैसे 30 कंपनियां जो आज सेंसेक्स में है कल को वह अच्छा परफॉर्म ना करें तो Sensex थोड़े दिन तो गिरेगा उसके बाद क्या होगा इन 30 कंपनियों को हटा दिया जाएगा और 30 नई कंपनियों को ले आया जाएगा और फिर हो सकता है

वह अच्छा परफॉर्म करें तो Sensex फिर से बढ़ने लगे तो कई बार ऐसा होता है कि सेंसेक्स में जो कि 30 सबसे बड़ी कंपनियां है तो वह तो अच्छा परफॉर्म कर रहे हैं क्योंकि वह देश की बेस्ट और बिगेस्ट कंपनी है लेकिन उसके नीचे ही कंपनियां अच्छा परफॉर्म नहीं कर रही और वहां Return नहीं मिल रहा।

और जैसे ही कोई कंपनी Sensex में है वह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही या उसका Share Price गिरता है जैसे ही Share Price गिरेगा तो Free Flot Market Cap भी गिरेगा तो वह जब गिरता है तो हर Quarterly हर 3 महीने में से समीक्षा किया जाता है। और अगर वह आप देश के 30 सबसे बड़ी कंपनियों में नहीं है!

क्योंकि उसका मार्केट Cap गिर गया है तो उसे हटा कर एक नई कंपनी को ले आया जाएगा यानी जो कंपनी परफॉर्म नहीं कर रही वह Sensex से निकल जाती है जो परफॉर्म कर रही है वह आ जाती है तो हमेशा विजेता को Sensex में रखा जाता है जैसे ही वह थोड़ा बुरा हुए उन्हें निकाल कर दूसरे विजेता को ले आया जाता है तो Sensex बहुत ही Vacuum Figure दिखाता है।

वह सिर्फ यही बता रहा है एक तरीके से की ये 30 कंपनियां आजकल अच्छा कर रहे हैं बाकी कंपनियां अच्छा नहीं कर रही क्योंकि जो अच्छा नहीं कर रही उसे तो हटा दिया जाता है तो कई बार ऐसी परिस्थिति होती है कि Sensex तो बढ़ रहा है लेकिन आपके Portfolio नहीं बढ़ रहा है कई बार हमें यह लगता है।

Sensex क्यों बढ़ रहा है मेरे Portfolio में तो Return नहीं आ रहा है। इसीलिए होता है Sensex में तो है ही वो कंपनियां पिछले कुछ महीनों से अच्छा कर रही हो और अभी देश की बड़ी कंपनियां होई हुई है Market Cap vice जैसे ही Share गिरेगा उन्हें हटा दिया जाएगा अपने परफॉर्मेंस को बहुत ज्यादा Sensex से तुलना ना करें क्योंकि Sensex में अस्थाई विजेता आते-जाते रहते हैं।

What-is-Sensex-and-Nifty-in-hindi
What is Sensex and NIFTY in Hindi – Sensex और NIFTY क्या है

तो इससे अगला सवाल उठता है कि अगर ऐसा है कि Sensex में Best 30 perform company जो Biggest हो गई है मार्केट Cap वाली वह है तो क्या हम को भी उनका कंपनी में Invest कर लेना चाहिए ऐसा भी बिल्कुल नहीं है! क्योंकि Sensex में Past Performance के आधार पर वह कंपनियां शामिल होती है। यानी पिछले तीन महीनों में किन कंपनियों का Share बड़ा और वह देश की 30 सबसे बड़ी कंपनियों में हो गई है!

उनको Sensex में शामिल किया जाता है कई बार ऐसा होता है कि जब तक वह कंपनियां Sensex में शामिल हुई और आपको पता चले कि अच्छा यह कंपनी अब Sensex शामिल हुई है तो मैं ले लेता हूं तब तक वह कंपनी पहले से बहुत महंगी हो चुकी रहती है उसमें मूल्य (Value) नहीं बचती वो Over Value हो गई रहती है।

अगर आप उस कंपनी में निवेश करेंगे तो आप काफी महंगे में उस कंपनी में Enter करेंगे क्योंकि stock market में आपको विजेता के पीछे पीछे नहीं भागना विजेता को पहले ही पहचान करना है। जैसे Race में आपको सही घोड़े पर Race शुरू होने के पहले दांव लगाना है Race शुरू हो जाए और जो घोड़ा आगे है आप दौड़कर उसे पकड़ नहीं सकते! उसी तरह Sensex में कौन सी कंपनी अगले साल आ सकती है कौन सी कंपनी देश की बड़ी 30 कंपनियों में शामिल हो सकती है ऐसा अगर आप आज पहचान  कर सके तो आपके लिए बहुत अच्छा है।

एक बार वो Sensex में शामिल हो जाए फिर उसमे Invest करना हर बार यह लाभदायक नहीं होने वाला है और मूल रूप से अगर आपको इस आर्टिकल से कोई एक चीज अपने साथ लेकर जानी है तो वह यह कि अपने Portfolio को Sensex से हमेशा तुलना ना करें आपके Portfolio अलग है! वह देश की सबसे बड़ी Top 30 कंपनियों से नहीं बनी है।

अगर आप MidCap और SmallCap में इन्वेस्ट कर रहे हैं तो पिछले 2 साल में हो सकता है आपको अच्छा रिटर्न ना मिला हो लेकिन बहुत ज्यादा Value है वहां बहुत Under Value Stock है! आज नहीं तो 1 साल बाद 1 साल नहीं तो 2 साल बाद अगर आपके Portfolio में Quality MidCap और Small Cap Stock है तो निश्चित रूप से Sensex को मात दे सकते हैं।

तो अगर आप आज इस आर्टिकल के कारण What is Sensex and NIFTY in Hindi Sensex और NIFTY को समझ पाए हो तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और फैमिली के साथ भी शेयर करिए ताकि उनके गलतफहमी सभी दूर हो। 

Previous articleVibes Meaning in Hindi – Vibes का मतलब क्या है?
Next articleStatus Meaning in Hindi – Status का मतलब क्या है
नमस्कार दोस्तों, मैं Sanu Kumar, HindiTrends(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiTrends Team Support DIGITAL INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here